Guru Purnima in Hindi, Guru Purnima quotes, Guru Purnima Images

सब धरती कागज करूँ, लिखनी सब बनराय।
सात समुद्र की मसि करूँ, गुरु गुण लिखा न जाय॥
-संत कबीर

प्रत्येक धार्मिक त्यौहार की उत्पत्ति अध्यात्म से हुई है । ऐसे त्योहारों के प्रतिपादक थे हमारे महान आध्यात्मिक शिक्षक। उन्होंने प्रत्येक उत्सव में मानवता के लिए दिव्य सन्देश को प्रतिपादित किया । Guru Purnima एक ऐसा ही पवित्र त्योहार है। ईश्वरीय उपदेश की तपन अधिक स्पष्ट है इस त्यौहार में । वेद व्यास के शिष्यों को गुरु पूजा का अग्रदूत कहा जाता है। इसलिए इसको व्यास पूजा भी कहा जाता है ।

Guru Purnima in Hindi, Guru Purnima quotes, Guru Purnima Images
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

Guru Purnima का त्यौहार आषाढ़ माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है । लेकिन सही मायनों में केवल वही लोग इस त्यौहार के पूर्ण अर्थ को समझ सकते हैं जिन्होंने अपने जीवन में गुरु धारण किया हुआ है और गुरु ने उनको अपनी पूर्णता का आभास ब्रह्मज्ञान देकर कराया हो। युगों पूर्व इसी दिन यानी आषाढ़ शुक्ल की पूर्णिमा को वेद व्यास जी का अवतरण हुआ था । इसलिए उनके शिष्यों ने इसी पुण्य दिवस को अपने गुरु पूजन का दिन चुना। यही कारण है की Guru Purnima को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें : Kabir das Biography in Hindi

आज इस बात को सहस्त्रों वर्ष बीत गए पर फिर भी यह परम्परा ज्यों की त्यों कायम है। और क्यों न हो ? जब गुरु सत्ता वही है। उसके वरदान व कृपाएं वही हैं। अज्ञानतिमिरान्धस्य ज्ञानांजन शलाकया- ज्ञान का काजल लगाकर अज्ञानता के अंधेपन को हरने का अंदाज वही है । महापुरुष कहते हैं – मनुष्य का जीवन कैसा है ? एक रात्रि के समान । अमावस्या की घोर रात जैसा ! उसके भीतर अज्ञानता का अन्धकार व्याप्त है । काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार आदि विकारों की कालिमा छायी हुई है। इस अमावस्या को पूर्णिमा में कैसे बदला जा सकता है। इसके लिए क्या चाहिए ? एक चद्र्मा ! गुरु ही वह चाँद है । पूर्णिमा का पूर्ण खिला हुआ चाँद है, जो मनुष्य के अंधकारमय जीवन में उतरता है ।

गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

महापुरुष कहते हैं की चन्द्रमा में एक विशेषता है, उसने सूर्य के साथ एक अटूट बंधन बाँधा हुआ है। वह दिन भर सूर्य के प्रकाश को पीता है, उसे ग्रहण कर अपने भीतर समेटता रहता है। और सूर्यास्त होने पर जब संसार गहन अन्धकार के कूप में डूबने लगता है, तब यही चन्द्रमा नभ में उदित होता है। अपनी रजत चाँदनी बिखरने, अपनी शीतल चन्द्रप्रभा छितराने ! गुरु भी ऐसी ही सत्ता है । उसका सूर्य रुपी परमात्मा के साथ पूर्ण तादात्मय होता है। उससे वो एकाकार हो चुका होता है । गुरुवाणी में कहा गया है –


सत पुरख जिन जानया सतगुर तिस का नाओं
तिस कै संग सिख उधरै नानक हर गुण गाओ।

सतगुरु वह है जिसने सतपुरख अर्थात परमात्मा को जान लिया हो, उससे एकरूप हो चूका हो। जिसमें परमात्मा का ज्ञान- प्रकाश पूरी तरह समाया हुआ हो। वह इसी ज्ञान प्रकाश को विस्तीर्ण करने हर युग में संसार में उतरता है। मनुष्य के जीवन की अमावस्या को पूर्णिमा में बदल देता है ।

गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

कुछ लोग अपने भव्य व्यक्तित्व के कारण हमारे लिए श्रद्धेय हैं । कुछ लोग सदाचरण के कारण आदरणीय हैं, तो कुछ करीब होने के कारण स्नेही। पर ईश्वर का दर्शन कराकर जीवन में ऐसी पूर्णिमा लाने वाले चंद्र के समान गुरु तो हमारे सर्वस्व होते हैं, पूजनीय एवं वंदनीय होते हैं । इसलिए शास्त्र कहते हैं की तन-मन-प्राण से उनकी पूजा वंदना करें- गुरु परमेसर पूजिये मन तन लाय प्यार। Guru Purnima यही सन्देश लेकर आयी है।

शिष्य की Guru Purnima

महापुरषों ने कहा- ध्यान मुळं गुरोर्वाक्यं…. गुरु की दिव्य मूरत का ध्यान करें, उनके मुख से मुखरित वाक्यों को मन्त्र समान मानें। उनके कमल रूपी श्री चरणों की पूजा- वंदना करें। भगवान् शिव ने तो गुरु गीता के माध्यम से स्पष्ट आदेश दिया। सर्वप्रयत्नेन गुरुराधनं कुरु- अपनी सर्वसामर्थ्य से गुरुपूजन का मतलब यह नहीं की हम इस दिन अपने घरों में भव्य पूजन का आयोजन करें। उसमें कीमती और विविध प्रकार की पूजा सामग्री चढ़ा दें । सर्वसामर्थ्य से अर्थ है की हम अपनी एक एक श्वाँस गुरु के चिंतन – सुमिरन में समर्पित करें। अपने समस्त विचारों एवं भावनाओं से ओत-प्रोत हो । भाव से एक फूल ही दे वो मुझे स्वीकार है – सतगुरुओं का सदा से यही कहना रहा है ।

Guru Purnima in Hindi, Guru Purnima quotes, Guru Purnima Images
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

महापुरुष अक्सर यह बताया करते हैं की फूल का पर्याय है सुमन। सुमन दो अक्षरों के मेल से बना है- सु+मन अर्थात सुंदर मन । इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु के चरणों में फूल अर्पित करें, तो अपना सुंन्दर मन भी उसके साथ जोड़ दें। श्रद्धा, प्रेम, विश्वास की माला पिरोकर उन्हें पहनायेँ । संत ज्ञानेश्वर जी को जब पूर्ण गुरु निवृत्तिनाथ जी मिले तो उन्होंने भी इसी प्रकार गुरु पूजन किया । इसका वर्णन उनके मराठी ग्रन्थ ज्ञानेश्वरी में मिलता है- मैं अपने ह्रदय की सुन्दर चौकी तैयार कर के। उसपर श्री गुरु के चरण स्थापित करता हूँ। फिर प्रेम रुपी स्वर्ण के चमकीले नूपुर पहनाता हूँ। श्रद्धा और भक्ति, इन अंगूठियों की जोड़ी उनके श्री चरणों की अँगुलियों में डालता हूँ। समर्पण सुगंध से भरा हुआ कमल उन्हें अर्पति करता हूँ।

इसी प्रकार जब ज्योत जलाकर आरती उतारें तो भी मन में यही भाव हो की- गुरुवर यह ज्योति हमारी आत्मा की प्रतीक है। इस आत्म- ज्योति को अपनी परम ज्योति में विलीन करने की कृपा करें। हमारे मन में पूर्णरूपेण समर्पण- विसर्जन- विलय के भाव हों। अन्यथा श्री के समक्ष प्रज्वलित किया गया यह दीपक उसी भाँति उपहास्पद होगा जैसे सूर्य को दीपक दिखाना। कहने का भाव यह है की जब तन के साथ हमारा मन भी पूजन करेगा तभी गुरु पूजा सार्थक होगी। तभी गुरु पूर्णिमा के दिन जो गुरु की विशेष कृपा हैं, उन्हें हम अपनी झोलियों में समेट पाएँगे ।

Guru Purnima Quotes in Hindi

गुरु में और पारस – पत्थर में अन्तर है, यह सब सन्त जानते हैं। पारस तो लोहे को सोना ही बनाता है, परन्तु गुरु शिष्य को अपने समान महान बना लेता है।
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

गुरु कुम्हार है और शिष्य घड़ा है, भीतर से हाथ का सहार देकर, बाहर से चोट मार – मारकर और गढ़ – गढ़ कर शिष्य की बुराई को निकालते हैं।
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

Guru purnima 2020 image
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

शिक्षक कभी साधारण नहीं होता
प्रलय और निर्माण उसकी गोद में खेलते हैं
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

गुरु के समान कोई दाता नहीं, और शिष्य के सदृश याचक नहीं। त्रिलोक की सम्पत्ति से भी बढकर ज्ञान – दान गुरु ने दे दिया।
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

गुरु है गंगा ज्ञान की, करे पाप का नाश।
ब्रम्हा-विष्णु-महेश सम, काटे भाव का पाश।।
गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनायें

Guru Purnima quotes, Guru Purnima Images
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

गुरू गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पांय।
बलिहारी गुरू अपने गोविन्द दियो बताय।।
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

सात द्वीप, नौ खण्ड, तीन लोक, इक्कीस ब्रह्मणडो में सद् गुरु के समान हितकारी कोई नहीं
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

यह तन विष की बेलरी, गुरु अमृत की खान |
शीश दियो जो गुरु मिले, तो भी सस्ता जान ||
गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here